ChaibasaFeaturedJharkhand

चाईबासा;आदिवासी समाज छोड़ ईसाई धर्म अपनाने वाले 3 परिवारों का हुआ सामाजिक बहिष्कार।

तिलक कु वर्मा
चाईबासा: मझगांव प्रखंड क्षेत्र के ग्राम मांगापाट सिरासाई में ग्रामसभा बुलाकर हो से ईसाई बने तीन परिवारों का सामाजिक बहिष्कार का फरमान सुनाया गया है. धर्मांतरण मामले को लेकर मझगांव प्रखंड क्षेत्र के ग्राम मांगापाट सिरासाई में ग्रामीण मुंडा मंगलसिंह तिरिया की अध्यक्षता में ग्राम सभा का आयोजन किया गया था.
ग्राम सभा में मझगांव के थाना प्रभारी, कुमारडुंगी थाना के पुलिस बल एवं आदिवासी हो समाज युवा महासभा के पदाधिकारीगण भी उपस्थित थे. बताया गया कि मौजा मांगापाट के टोला सिरासाई में लगभग एक साल पहले राऊतु बंकिरा, राजेंद्र बंकिरा और हीरालाल बंकिरा के परिवार ईसाई धर्म में धर्मांतरित हो गये थे. धर्मांतरण को लेकर गांव में दोनों गुटों में अक्सर वाद-विवाद होता रहता था.
ग्रामीणों ने इससे पहले भी तीन-चार बार ग्रामसभा की बैठक बुलायी थी और तीनों पर परिवारों को सरना धर्म में वापस आने का प्रस्ताव दिया था. लेकिन धर्मांतरित परिवार ऐसा करने को राजी नहीं हुए. इसके कारण गांव में पारंपरिक त्योहार और सामाजिक गतिविधियों के दौरान वाद-विवाद होता रहता था. इस समस्या के समाधान के लिए शुक्रवार को फिर से पुलिस-प्रशासन की मौजूदगी में ग्रामसभा की गयी. यह फैसला ग्रामसभा की बैठक में लिया गया. इस बैठक में तीनों परिवारों के सामाजिक बहिष्कार का फरमान सुनाया गया.फैसला लिया गया कि धर्मांतरित परिवार को सरकारी लाभ और सरकारी योजना के अलावा गांव में सभी जगह आने-जाने की पाबंदी रहेगी. ईसाई बने परिवार गाय-बैल-बकरी अपनी जमीन में चरायेंगे. शादी-विवाह-जन्म-मृत्यु एवं अन्य सामाजिक कार्यक्रम में किसी तरह का कोई सहयोग नहीं मिलेगा. गांव के लोग धर्मांतरित परिवार से कोई संबंध नहीं रखेंगे और बातचीत भी नहीं करेंगे. बहिष्कार के पालन की समीक्षा हर रविवार सुबह सात बजे करने का फैसला भी किया गया

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker