FeaturedJamshedpurJharkhandNational

16 दिसंबर से लगेगा खरमास, मांगलिक कार्यों पर लगेगी रोक

जमशेदपुर। 23 दिसंबर 2023 को चर्तमास के समाप्त होते ही विवाह, तिलक, छेंका, गृह प्रवेश समेत तमाम शुभ कार्य एकाएक प्रारंभ हो गये थे। समाज में अचानक रौनक बढ़ गया था। ढोल,बाजा व लाउडस्पीकर की आवाजें गूंजने लगी थी। अब एक माह के लिए सब बंद हो जायेगा। ज्योतिषाचार्य पंडित राजेश पाठक ने बताया कि खरमास बर्ष की 16 दिसंबर 2023 से शुरू होकर 15 जनवरी 2024 तक रहेगा। आने वाले नूतन वर्ष 2024 में 15 जनवरी को सूर्य देव जब मकर राशि में प्रवेश करेंगे, तब मकर संक्रांति के त्योहार के बाद सारे शुभ कार्य शुरू हो जायेंगे।
खरमास के दौरान कोई भी शुभ कार्य, शादी- विवाह, घर खरीदना या फिर कोई नए कार्य की शुरूआत करना वर्जित माना गया है। हालांकि पूजा पाठ वगैरह चलता रहेगा।
सूर्य गुरु की राशि में होते हैं तो उस काल को गुर्वादित्य कहा जाता है, जो शुभ कामों के लिए वर्जित है। क्या आप जानते हैं कि इसे खरमास क्यों कहा जाता है। आइए जानते हैं खरमास को क्यों अशुभ माना गया है और कैसे पड़ा इसका नाम खरमास। शास्त्रों के मुताबिक, सूर्य जब बृहस्पति की राशि धनु और मीन राशि में प्रवेश करते हैं तो इस दौरान वह अपने गुरु की सेवा में रहते हैं ऐसे में सूर्य स्वयं भी कमजोर हो जाता है और सूर्य की वजह से गुरु महराज का बल भी कमजोर होता है। शुभ कार्य के लिए इन दोनों ग्रहों की मजबूत होना काफी आवश्यक है। यही वजह है कि इसमें मांगलिक कार्य फलित नहीं होते। इसलिए इसे अशुभ महीना माना गया है।
खरमास में विवाह, सगाई करना वर्जित हैं. मान्यता है कि इससे व्यक्ति को दांपत्य जीवन में कई तरह परेशानियां झेलनी पड़ती है। वैवाहिक सुख नहीं मिल पाता। इस अवधि में नए घर में प्रवेश न करें, कहते हैं इससे दोष लगता है और परिवार में अशांति रहती है। खरमास में नये व्यापार की शुरुआत नहीं करते क्योंकि इससे जीवन में संघर्ष बढ़ जाता है और सफलता मिलने की संभवानाएं कम हो जाती है। इस दौरान मुंडन, जनेऊ संस्कार और कान छेदन भी खरमास में वर्जित है। इससे साधक पर नकारात्मक असर पड़ता है। 15 दिसंबर 2023 से मांगलिक कार्यों पर रोक लग जाएगी। इस दिन करीब 10 बजे सूर्य वृश्चिक से निकलकर गुरु की राशि धनु में प्रवेश करेंगे। जिसके बाद खरमास शुरू हो जाएंगे। खरमास की समाप्ति मकर संक्रांति पर 14 जनवरी 2023 को होगी।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker