FeaturedJamshedpur

वैश्विक स्टडी का खुलासाः भारतीय बेहतर कल के निर्माण के लिए वैश्विक सहयोग और टेक इन्वेंशन में रखते हैं भरोसा

– 88 फीसदी मानते हैं कि वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए वैश्विक सहयोग की आवश्यकता है

– 72 फीसदी मानते हैं कि भारत ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर बनाएगा जो ग्रीन ट्रेवल को सहयोग करेगा

– 24 बाजारों में 22 हजार लोगों पर सर्वेक्षण, अक्टूबर में एक्सपो खुलने की तैयारी के साथ

जमशेदपुर/ रांची – इस साल एक्सपो 2020 दुबई के द्वारा किए गए सर्वे के अनुसार, 88 प्रतिशत भारतीय मानते हैं कि देश को वैश्विक चुनौतियां जैसे महामारी आदि को हल करने के लिए साथ मिलकर काम करना चाहिए। 2021 का सर्वे 24 देशों के 22 हजार से ज्यादा लोगों के बीच किया गया, जिसमें यह निकलकर सामने आया कि कोविड-19 महामारी के आने के बाद बहुत कुछ बदल गया है। यह सर्वे यू जीओवी (YouGov) के साथ पार्टनरशिप के तहत किया गया। ऐसी ही एक स्टडी 2019 में महामारी आने के पहले भी की गई थी।
इस स्टडी में निकलकर सामने आई मुख्य बातों में से एक विचार यह भी था कि 56 प्रतिशत भारतीय मानते हैं कि बेहतर कल के निर्माण के लिए समुदायों के बीच बड़े स्तर पर सहयोग का निर्माण होना चाहिए। इनमें 57 प्रतिशत भारतीय यह भी मानते हैं कि तकनीक में आने वाला नवीनीकरण निश्चित तौर पर एकता को बढ़ाएगा।

दुबई के अंतर्राष्ट्रीय कोऑपरेशन के मंत्री औऱ एक्सपो 2020 दुबई के डायरेक्टर जनरल रीम अल हाशिम ने कहा, एक्सपो 2020 ने इस नए वैश्विक अध्ययन को विकसित किया है, जिसके बूते हमें यह समझने में मदद मिल सकेगी कि दुनिया के लोग यह कैसे मानते हैं कि हम मिलकर एक बेहतर कल को आकार दे सकते हैं। हम अपनी प्राथमिकताओं पर फोकस कर सकते हैं। कुल मिलाकर जो भी बातें इस स्टडी के जरिए निकलकर सामने आई हैं, वे निश्चित तौर पर उत्साहजनक हैं।

सर्वेक्षण के मुताबिक, भारतीयों के मन में प्रौद्योगिकी और स्थिरता के प्रति सकारात्मक सोच है, जो यह बताता है कि 75 प्रतिशत युवा भारतीय अपने भविष्य और अवसरों की खोज को लेकर आशान्वित हैं। यह आंकड़ा वैश्विक युवाओं की प्रतिक्रिया के 50 प्रतिशत के मुकाबले है। स्थिरता की ओर मजबूत झुकाव, सर्वेक्षण ने यह भी दर्शाया कि दस में से सात ट्रस्ट अगले दशक में चार्जिंग स्टेशन और इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (ईवी) जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर को विकसित करेगा, जो ग्रीन ट्रैवल को सहयोग करेगा।
सर्वे में स्वास्थ्य और समृद्धि के साथ स्थाई यात्राएं, पर्याप्त फूड सप्लाई चेन और शहरी और ग्रामीण भारत के समुदायों का विकास जैसे विषयों पर एक्सपो 2020 प्रोग्राम में फोकस होगा।

कोविड-19 महामारी की दस्तक के बाद से दुनिया का पहला वैश्विक मेगा इवेंट देखने को मिलेगा। यह 1 अक्टूबर 2021 से 31 मार्च 2022 तक संपन्न होगा। यह दुनियाभर से आगंतुकों को आमंत्रित करता है। ताकि एक नई दुनिया का निर्माण हो। छह माह चलने वाले मानवता, नवीनता, तकनीक और विकास के इस उत्सव का हिस्सा बनिए।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker