FeaturedJamshedpurJharkhand

प्रगति सरस्वती शिशु विद्या मंदिर, बिरसानगर विद्यालय में ‘स्वामी विवेकानंद जयंती’ के शुभ अवसर पर ‘युवा दिवस’ मनाया गया

उठो जागो और जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो जाए तब तक मत रुको"

जमशेदपुर। युवाओं के प्रेरणापुंज स्वामी विवेकानंद जी ने अपने इस जोशिले उक्ति से युवाओं में जोश और उत्साह भर दिया था और अपने ओजस्वी वचनों ने देश को विश्व में सर्वोच्च स्थान दिलाया था।

शुक्रवार को विद्यालय में ‘विवेकानंद जयंती’ के शुभ अवसर पर ‘युवा दिवस’ मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि श्री राजकुमार सिंह (पूर्व जिला परिषद उपाध्यक्ष), विशिष्ट अतिथि सुश्री अंकिता सिन्हा (शहर की युवा अंतरराष्ट्रीय कवयित्री जिन्होंने जम्मू कश्मीर से धारा 370 के हटने के बाद गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहरायी थी), अतिथि श्री अरविंद सिंह (संकुल संयोजक), विद्यालय के अध्यक्ष श्री भोला मंडल, सचिव श्री अरविंद पाण्डेय, कोषाध्यक्ष श्री सोना भट्टाचार्य, प्रधानाचार्य श्री सुरेश कुमार राय ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलन कर किया। प्रधानाचार्य सुरेश कुमार राय ने आगत अतिथियों का परिचय कराया।

इस अवसर पर विद्यालय के बहनों ने स्वागत गीत एवं नृत्य प्रस्तुत कर सभी का मन मोह लिया और बाल वर्ग के भैया/बहनों ने विवेकानंद के जीवन से संबंधित प्रसंग की लघु नाट्य की प्रस्तुति दी। उसके बाद हमारे कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि अंकिता सिन्हा ने अपने ओजस्वी कविताओं से युवाओं में जोश भरा और बहनों-बेटियों की रक्षा का संकल्प करवाया। उनकी पंक्ति…..
“सुमधुर संस्कार जहाँ हो तेरा ही वंदन ,
शुद्ध भावना सार जहां हो तेरा ही क्रंदन ,
युवा बने विवेकानंद जैसा संदेश अनुराग का हो ,
प्रेमराग सदाचार जहां ,हो तेरा ही अभिनंदन।।”

मुख्य अतिथि श्री राजकुमार ने भैया/बहनों को संबोधित करते हुए कहा कि अपने लक्ष्य को ध्यान में रखकर आगे बढ़े तो सफलताएं एक दिन अवश्य मिलेगी।

कार्यक्रम का संचालन अंग्रेजी की आचार्या रिंकू दीदी ने किया। आचार्य अंजय मोदी के प्रमुखता में सभी आचार्यों के सहयोग से कार्यक्रम सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। धन्यवाद ज्ञापन आचार्य अंजय मोदी ने किया। और साथ ही शांति मंत्र से कार्यक्रम का समापन किया।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker