FeaturedJamshedpurJharkhandNational

कलश यात्रा में हर-हर महादेव के जयकारे से मानगो वसुन्धरा एस्टेट का माहौल हुआ भक्तिमय, झाकी ने सबका मन मोहा

जमशेदपुर। नव वर्ष के शुभ अवसर पर मानगो एनएच 33 स्थित वसुन्धरा एस्टेट (नियर इरीगेशन कॉलोनी) में श्री शिव महापुराण कथा सप्ताह ज्ञान यज्ञ का शुभारम्भ सोमवार को कलश (शोभा) यात्रा एवं व्यास पूजन महत्व से हुआ। वृन्दावन से पधारे स्वामी वृजनंदन शास्त्री महाराज द्धारा श्री गणेश पूजन, मातृका पूजन, नवगृह पूजन, कलश स्थापना आदि धार्मिक अनुष्ठान की विधिवत् रूप से पूजा अर्चना कराने के बाद शोभा यात्रा आगे बढ़ी और एनएच 33 स्थित राधा-कृष्ण के मंदिर तक गयी। मंदिर में पुनः व्यास एवं राधा-कृष्ण की पूजा करके शोभा यात्रा वापस वसुन्धरा स्टेट कथा स्थल पर आकर संपन्न हुई।
इस धार्मिक मौके पर वृजनंदन शास्त्री ने शिव महापुराण कथा का वाचन किया। उन्होंने कहा कि शुभ कर्माे की यात्रा का नाम ही शोभा यात्रा हैं। कथा सुनने से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति होती है और ज्ञान का भंडार बढ़ता है। अच्छे संकल्प एवं अच्छे विचार ही व्यक्ति को महान बनाता और ईश्वर से मिलता हैं। इसका आयोजन किरण-उमाशंकर शर्मा द्धारा किया गया हैं। कलश यात्रा में सबसे आगे खुली जीप वाहन पर स्वामी वृजनंदन शास्त्री महाराज सवार थे। शिव-पार्वती एवं राधा-कृष्ण की अद्भूत झांकी लोंगों को अपनी और आकर्षित कर रही थी। शोभा यात्रा में सैकड़ों की संख्या में भक्तगण शामिल थे, जिसमें महिलाओं की संख्या अधिक थी। महिलाएं सिर पर कलश धारण किए मंगल गीत गाते हुए चल रहीं थीं। बैंड पर बज रहे धार्मिक गीतों पर महिला-पुरुष नृत्य करते और बम-बम भोले, हर-हर महादेव के जयकारे लगाते हुए चल रहे थे। जिससे वसुन्धरा स्टेट का पूरा माहौल भक्तिमय हो गया था। आयोजक के पुत्र भाजयुमो नेता कृष्णा शर्मा उर्फ काली शर्मा ने बताया कि शिव कथा 26 दिसम्बर मंगलवार से 01 जनवरी सोमवार तक चलेगा। सप्ताह ज्ञान यज्ञ शिव कथा के अंतिम दिन भण्डारा का आयोजन होगा। स्वामी जी रोजाना शाम 4 बजे से व्यासपीठ पर आसीन होकर अपनी सुमधुर रसमयी अमृतवाणी से श्रीमद् भागवत कथा का भक्तों को रसपान करायेंगें। शोभा यात्रा में प्रमुख रूप से उमाशंकर शर्मा, कृपाशंकर शर्मा, रामाशंकर शर्मा, गिरजाशंकर शर्मा, कृष्णा शर्मा उर्फ काली शर्मा, संतोष शर्मा, विश्वनाथ शर्मा, रामानन्द शर्मा, रवीन्द्र कुमार, अनिल कुमार, चंदन कुमार समेत सैकड़ों की संख्या में भक्तगण शामिल थे।

Related Articles

Back to top button

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker